Monday, July 4, 2022
Homeपर्यावरणएनडीआरएफ ने शुरू किया “ प्लास्टिक मुक्त ” अभियान

एनडीआरएफ ने शुरू किया “ प्लास्टिक मुक्त ” अभियान

रामगढ़ ताल के किनारों को प्लास्टिक मुक्त किया गया
बापू की 150 वीं जयंती के उपलक्ष्य में 11 सितंबर से 27 अक्टूबर तक
स्वच्छता ही सेवा अभियान

गोरखपुर। 11वीं एनडीआरएफ तथा जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण गोरखपुर के
संयुक्त तत्वाधान में 11 सितम्बर से 27 अक्टूबर तक स्वच्छता ही सेवा
अभियान चलाया जा रहा है। जिसकी शुरूआत करते हुए 11 सितम्बर 2019 को
“प्लास्टिक वेस्ट श्रमदान“ के रूप में रामगढ़ताल निकट सर्किट हाउस गोरखपुर
मे लोगो को जागरूकं किया गया। यह अभियान  महात्मा गाँधी के 150वीं जयंती
के अवसर पर चलाया जा रहा है।
कार्यक्रम में जिला आपदा प्रबन्धन गोरखपुर, भारत सेवा मिशन, राष्ट्रीय
सेवा योजना, पहला कदम, स्व राम रहस्य एजुकेशनल ट्रस्ट गोरखपुर, एनसीसी, नेहरू युवा केन्द्र ने भाग लिया।

इस मौके पर एनडीआरएफ के उप कमाण्डेंट  पीएल शर्मा ने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्लास्टिक ने हमारा जीवन जितना आसान किया है उतना ही इसकी वजह से हमें कई मुश्किलों का भी सामना करना पड़ रहे है। प्लास्टिक का प्रयोग हम अपने दैनिक जीवन में रोज जाने-अनजाने करते रहे है और एक बार इस्तेमाल कर फेंक दिया जाता है जिसमें थैलियाॅं पैकेजिंग और पानी की बोतलें शामिल होती हैं । प्लास्टिक का इस प्रकार प्रयोग जलवायु एवं पर्यावरण को भारी क्षति पहुंचा रहा है। जिसके फलस्वरूप अनेक प्रकार की घटना-दुघर्टनायें  आपदाओं को जन्म दे रही है। जिससे बचा जा सकता है ।


इस मौके पर सभी प्रतिभागियों द्वारा साफ सफाई रखने एवं जागरूकता फैलाने
हेतु शपथ भी ली गई। सफाई अभियान के दौरान सभी प्रतिभागियों  द्वारा
बिखरी हुई  थैलियों, पैकेजिंग मटीरियल,पानी की बोतल इत्यादि को एक़ित्रत
कर एक स्थान में इकटठा किया गया। जिसको  पुनः चक्रित कर अन्य कार्यो के
लिए इस्तेमाल किया जाएगा ।

अभियान को सफल बनाने में  निरीक्षक गोपी गुप्ता, राजेश कुमार सिंह (एडीएम
एफआर) डा आशीष श्रीवास्तव (भारत सेवा मिशन), डा केशव सिंह (समन्वयक भारत सेवा योजना)  श्री गौतम गुप्ता (आपदा विशेषज्ञ गोरखपुर), डीडीएमए के
सदस्य और कुछ जागरूक ग्रामीण द्वारा सार्थक प्रयास किया गया।

 इस अभियान में एनडीआरएफ के 40 बचाव कर्मी, नगर निगम गोरखपुर,जिला आपदा प्रबन्धन, भारत सेवा मिशन, पहला कदम, भारत नेपाल मैत्री समाज,आदि
संस्थाओं के 200 प्रतिभागियों ने योगदान दिया।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments