Tuesday, November 29, 2022

Notice: Array to string conversion in /home/gorakhpurnewslin/public_html/wp-includes/shortcodes.php on line 356
Homeनेपाल में संसद विघटन के विरोध में देश व्यापी आम हड़ताल का...
Array

नेपाल में संसद विघटन के विरोध में देश व्यापी आम हड़ताल का दिखा असर

नेपाल में संसद विघटन के विरोध में नेकपा के पुष्प कमल दाहाल उर्फ प्रचंड व माधव नेपाल समूह के आह्वान पर बृहस्पतिवार को आयोजित देश व्यापी आम हड़ताल के कारण जन जीवन अस्त व्यस्त रहा।सवारी साधन नही चलने से आम यात्रियों को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ा।छिटपुट झड़प ,आगजनी व हिंसा के बीच आम हड़ताल का असर नेपाल के प्रमुख शहरों में दिखा। सीमावर्ती क्षेत्र में हालांकि दुकानें खुली रहीं लेकिन सवारी साधन नही चले। बॉर्डर पर आवाजाही सामान्य रही।

प्रदर्शनकारियों ने सरकार के खिलाफ बृहस्पतिवार को जमकर विरोध प्रदर्शन व नारे बाज़ी की।कुछ स्थानों पर नेपाल पुलिस व प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प होने की भी खबर है।पुलिस ने कई प्रदर्शनकारियों को हिरासत में भी लिया है।समाचारों के अनुसार जनकपुर में बाजार बंद करवाने के क्रम में शिव चौक में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गयी जिसमें प्रचंड -नेपाल पक्ष के केंद्रीय सदस्य रामचंद्र झा के घायल होने की खबर है।बताया जाता है कि झा के सिर में चोट आई है।एक पुलिस कर्मी के भी घायल होने का समाचार है।सिंधुली में प्रदर्शनकारियों व ओली समर्थकों के बीच भी झड़प होने की खबर है।

राजधानी काठमाण्डु में प्रचंड-नेपाल समूह के आम हड़ताल के विरोध में ओली समर्थकों ने “मार्च पास्ट ” किया , ओली समर्थकों ने के पी शर्मा ओली के समर्थन में जमकर नारे बाज़ी की । आम हड़ताल के विरोध में आयोजित मार्च पास्ट का नेतृत्व महेश बस्नेत ने किया।”के पी शर्मा ओली,आई लव यू”,के पी शर्मा आगे बढ़ो,आज नहीं कल के लिए, 10 वर्ष ओली के लिए आदि के नारे लगाए।

इधर,सीमाई इलाके में जन जीवन सामान्य रहा।बॉर्डर पर आवाजाही सामान्य रूप से जारी रही।कृष्णनगर व बढनी की दुकाने खुली रहीं।बन्द का असर भारतीय बाजारों में ज़रूर दिखा नेपाली ग्राहकों से गुलज़ार रहने वाले बढ़नी कस्बे में चहल पहल अपेक्षाकृत कम रही।सवारी साधन ने चलने से आम यात्रियों को हालांकि परेशानियों का सामना करना पड़ा।

सगीर ए खाकसार
सग़ीर ए खाकसार सिद्दार्थनगर के वरिष्ठ पत्रकार हैं
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments