Tuesday, September 27, 2022
Homeसमाचाररमजान का आगाज 6 या 7 मई से, सजेगा सहरी व इफ्तार...

रमजान का आगाज 6 या 7 मई से, सजेगा सहरी व इफ्तार का दस्तरख्वान

-रमजान कैलेंडर बंटना शुरू

गोरखपुर। मुकद्दस इस्लामी माह रमजान कुछ दिनों के फासले पर है। जामिया रजविया मेराजुल उलूम चिलमापुर के मुफ्ती मो. अजहर शम्सी ने बताया कि अगर 5 मई को रमजान का चांद नज़र आ गया तो 6 मई सोमवार को पहला रोजा होगा। अगर चांद नज़र नहीं आया तो पहला रोजा 7 मई मंगलवार से शुरू होगा।

मदरसा दारुल उलूम हुसैनिया दीवान बाजार, जामिया रजविया मेराजुल उलूम चिलमापुर, दारुल उलूम अहले सुन्नत फैजाने मुबारक खां शहीद नार्मल आदि से रमजान कैलेंडर बंटना शुरू हो चुका है। रमजान शुरु होने में 11 या 12 दिन बचे हैं उस लिहाज से मुस्लिम घरों व मस्जिदों में रमजान की तैयारियां शुरु हो चुकी हैं। रमजान की रातों में पढ़ी जाने वाली विशेष तरावीह नमाज पढ़ाने के लिए हाफिज-ए-कुरआन का चयन होना भी शुरू हो चुका है। रमजान में रोजेदार दिन में रोजा रखेंगे और रात में तरावीह नमाज पढ़ेंगे।

अबकी रमजान में चार जुमा पड़ेगा। इस बार पहला रोजा करीब 15 घंटा 3 मिनट व अंतिम रोजा 15 घंटा 29 मिनट का होगा। इस बार भी शिद्दत की गर्मी में मुसलमान रमजान का रोजा रख अल्लाह को राजी करेंगे। पहले रोजे में सुबह 3:42 बजे सहरी और शाम 6:39 बजे इफ्तार किया जायेगा। आखिरी रोजे में सुबह 3:24 बजे सहरी और शाम 6:53 बजे इफ्तार होगा। कुल मिलाकर सहरी में तीस दिन के अंदर करीब 18 बार व इफ्तार में 14 बार परिवर्तन होगा।

रमजान माह में तीसरा रोजा सबसे छोटा होगा। जो पंद्रह घंटे का होगा। इसके बाद रोजे के वक्त में दो तीन मिनट की बढ़ोत्तरी होती रहेगी। वहीं पिछली बार की तरह इस बार भी आखिरी दो रोजा सबसे बड़ा 15 घंटा 29 मिनट का होगा। रमजान में सहरी व इफ्तार के दस्तख्वान पर सजे लजीज व्यंजन, शर्बत, फल, खजूर वगैरा रोजेदार का इस्तकबाल करते नज़र आयेंगे।

मदरसा दारुल उलूम हुसैनिया दीवान बाजार के मुफ्ती अख्तर हुसैन ने बताया कि मुकद्दस रमजान का पहला अशरा रहमत, दूसरा मगफिरत, तीसरा जहन्नम से आजादी का है। रमजान रहमत, खैर व बरकत का महीना है। इसमें रहमत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं। जहन्नम के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं। शैतान जंजीर में जकड़ दिए जाते हैं। नफ्ल का सवाब फर्ज के बराबर और फर्ज का सवाब सत्तर फर्जों के बराबर  दिया जाता है।

दारुल उलूम अहले सुन्नत फैजाने मुबारक खां शहीद नार्मल के मौलाना मकसूद आलम मिस्बाही ने बताया कि अलग-अलग जंतरियों की वजह से रमजान कैलेंडरों व कार्डों में दो-तीन मिनट का फर्क आता है। रोजेदारों को चाहिए कि दस मिनट पहले ही सहरी खत्म कर लें और इफ्तार के लिए एक-दो मिनट और इंतजार कर लें। रोजा खास अल्लाह के लिए है। अल्लाह रोजेदार के सारे गुनाफ माफ कर देता है। रोजा जहन्नम की आग से बचने का ढ़ाल है। रोजेदार का खाना-पीना, सोया रहना भी इबादत है।

अल्लाह के बंदों में रमजान को लेकर गजब का उत्साह है। सोशल मीडिया पर रमजान के दिनों में की जाने वाली इबादतों के बारे में व खान-पान के बारे में जागरुकता फैलाई जा रही है। रमजान कैलेंडर व कार्ड भी शेयर किए जा रहे हैं। रमजान माह में सहरी व इफ्तार को महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। समय से सहरी करने व रोजा इफ्तार करने के लिए तमाम मदरसे, निजी संस्थाएं व आमजन द्वारा रमजान सहरी-इफ्तार कार्ड व कैलेंडर छपवा कर नि:शुल्क वितरित किया जा रहा है।

-दारुल उलूम अहले सुन्नत फैजाने मुबारक खां शहीद नार्मल द्वारा जारी सहरी व इफ्तार का वक्त (गोरखपुर के लिए)

रोजा – अंग्रेजी तिथि – सहरी का वक्त / इफ्तार का वक्त / रोजा की अवधि

1 – 7 मई – सहरी प्रात: 3:42 / इफ्तार शाम 6:39/ 15 घंटा 3 मिनट

2 – 8 मई – सहरी प्रात: 3:41 / इफ्तार शाम 6:40/ 15 घंटा 1 मिनट

3 – 9 मई – सहरी प्रात: 3:40 / इफ्तार शाम 6:40/ 15 घंटा 00 मिनट

4 – 10 मई – सहरी प्रात: 3:39 / इफ्तार शाम 6:41/ 15 घंटा 2 मिनट

5 – 11 मई – सहरी प्रात: 3:38 / इफ्तार शाम 6:41/ 15 घंटा 3 मिनट

6 – 12 मई  – सहरी प्रात: 3:37 / इफ्तार शाम 6:42/ 15 घंटा 5 मिनट

7 – 13 मई – सहरी प्रात: 3:36 / इफ्तार शाम 6:42/ 15 घंटा 6 मिनट

8 – 14 मई – सहरी प्रात: 3:35 / इफ्तार शाम 6:43/ 15 घंटा 8 मिनट

9 – 15 मई – सहरी  प्रात: 3:34 / इफ्तार शाम 6:43/ 15 घंटा 9 मिनट

10 – 16 मई – सहरी प्रात: 3:34 / इफ्तार शाम 6:44/ 15 घंटा 10 मिनट

11 – 17 मई – सहरी प्रात: 3:33 / इफ्तार शाम 6:44/ 15 घंटा 11 मिनट

12 – 18 मई – सहरी प्रात: 3:33 / इफ्तार शाम 6:45/ 15 घंटा 12 मिनट

13 – 19 मई – सहरी प्रात: 3:32 / इफ्तार शाम 6:45/ 15 घंटा 13 मिनट

14 – 20 मई – सहरी प्रात: 3:31 / इफ्तार शाम 6:46/ 15 घंटा 15 मिनट

15 – 21 मई – सहरी प्रात: 3:31 / इफ्तार शाम 6:46/ 15 घंटा 15 मिनट

16 – 22 मई – सहरी प्रात: 3:29 / इफ्तार शाम 6:47/ 15 घंटा 18 मिनट

17 – 23 मई – सहरी प्रात: 3:29 / इफ्तार शाम 6:47/ 15 घंटा 18 मिनट

18 – 24 मई – सहरी प्रात: 3:28 / इफ्तार शाम 6:48/ 15 घंटा 20 मिनट

19 – 25 मई – सहरी प्रात: 3:28 / इफ्तार शाम 6:48/ 15 घंटा 20 मिनट

20 – 26 मई – सहरी प्रात: 3:27 / इफ्तार शाम 6:49/ 15 घंटा 22 मिनट

21 – 27 मई – सहरी प्रात: 3:27 / इफ्तार शाम 6:49/ 15 घंटा 22 मिनट

22 – 28 मई – सहरी प्रात: 3:26 / इफ्तार शाम 6:51/ 15 घंटा 25 मिनट

23 – 29 मई – सहरी प्रात: 3:26 / इफ्तार शाम 6:51/ 15 घंटा 25 मिनट

24 – 30 मई – सहरी प्रात: 3:25 / इफ्तार शाम 6:52/ 15 घंटा 27 मिनट

25 – 31 मई – सहरी प्रात: 3:25 / इफ्तार शाम 6:52/ 15 घंटा 27 मिनट

26 -1 जून – सहरी प्रात: 3:25 / इफ्तार शाम 6:52/ 15 घंटा 27 मिनट

27- 2 जून – सहरी प्रात: 3:25 / इफ्तार शाम 6:53/ 15 घंटा 28 मिनट

28 – 3 जून – सहरी प्रात: 3:25 / इफ्तार शाम 6:53/ 15 घंटा 28 मिनट

29 – 4 जून – सहरी प्रात: 3:24/  इफ्तार शाम 6:53/ 15 घंटा 29 मिनट

30 – 5 जून – सहरी प्रात: 3:24 / इफ्तार शाम 6:53/ 15 घंटा 29 मिनट
———————–

सैयद फ़रहान अहमद
सिटी रिपोर्टर , गोरखपुर
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments