Monday, December 5, 2022
Homeसमाचारपरीक्षा व्यय का समायोजन नहीं होने से स्ववित्तपोषित महाविद्यालय प्राचार्य परिषद नाराज

परीक्षा व्यय का समायोजन नहीं होने से स्ववित्तपोषित महाविद्यालय प्राचार्य परिषद नाराज

गोरखपुर। स्ववित्तपोषित महाविद्यालय प्राचार्य परिषद् ने 2021 और 2022 की परीक्षा व्यय के समायोजन और उत्तर पुस्तिका को नोडल केंद्र तक पहुंचाने में व्यय धनराशि के भुगतान न करने पर तीव्र आक्रोश व्यक्त किया गया।

इस संबंध में परिषद ने एक ज्ञापन आज कुलपति, कुलसचिव और परीक्षा नियंत्रक को सौंपा।

स्ववित्तपोषित महाविद्यालय प्राचार्य परिषद की बैठक बुधवार को शाम चार बजे डॉ कृष्ण मुरारी पाल की अध्यक्षता में पंत पार्क में हुई। बैठक में पाँच मुद्दों पर चर्चा हुई और इस संनद्ध में निर्णय लिए गये।

1- वार्षिक परीक्षा वर्ष 2020 और 2021 में परीक्षा संपन्न कराने में नोडल केंद्र तक महाविद्यालयों के प्राचार्य अपने साधनों से उत्तर पुस्तिका बंडल नोडल केंद्र तक पहुंचाया है , किंतु अभी तक उसका भुगतान नहीं हो पाया । परीक्षा समायोजन का भुगतान भी 2 वर्षों से लंबित है।

2- ऐसी परिस्थिति में या तो विश्वविद्यालय प्रशासन परीक्षा उत्तर पुस्तिका अपने साधनों से महाविद्यालय से मंगवाने का प्रबंध करें अन्यथा की स्थिति में प्राचार्य उत्तर पुस्तिका को नोडल केंद्र तक पहुंचाने में असमर्थ हैं।

3- वार्षिक परीक्षा 2022 स्नातक स्नातकोत्तर की परीक्षा संपन्न कराने हेतु विश्वविद्यालय प्रशासन ने अभी तक अग्रिम भुगतान नहीं किया है। ऐसी परिस्थिति में या तो परीक्षा एक सप्ताह तक आगे टाल दिया जाए या परीक्षा पूर्व अग्रिम भुगतान सुनिश्चित किया जाए ।

4- विगत वर्ष और इस वर्ष स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर पर मूल्यांकन कार्य कर चुके शिक्षकों का पारिश्रमिक भुगतान अविलंब कराया जाए। अन्यथा की स्थिति में वार्षिक परीक्षा का मूल्यांकन हम लोग करने में असमर्थ होंगे।

5- स्नातकोत्तर स्तर पर परीक्षा संपन्न कराने हेतु मौखिकी परीक्षा, प्रयोगात्मक परीक्षा और उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन में सभी स्ववित्तपोषित महाविद्यालयों के शिक्षकों को बिना भेदभाव के नामित किया जाना चाहिए।

परिषद के पदाधिकारियों ने कहा कि विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने जानकारी दी कि 2019-2020 के समायोजन और नोडल भुगतान के लिए फाईल लेखा विभाग भेज दिया गया है और 3 अप्रैल से 8 अप्रैल तक सबके खाते में पैसा भेज दिया जाएगा। जो भी परीक्षक पिछले वर्ष उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन किए हैं उनका पैसा भी एक सप्ताह में उनके खाते में हस्तांतरित कर दिए जाने की बात कही गई है।

वित्त अधिकारी ने बताया कि वार्षिक परीक्षा 2022 का पारिश्रमिक का भुगतान केन्द्राध्यक्ष, सहायक केन्द्राध्यक्ष एवं कक्ष निरीक्षक के भुगतान उनके के खाते में सीधे भेजे जाने की बात कही । कान्टीजेन्सी का भुगतान परीक्षा के दौरान केन्द्राध्यक्षों के खाते में भेजा जाएगा।

प्रतिनिधिमंडल में डॉ. कृष्ण मुरारी पाल डाॅ.के .पी. चौरसिया, डॉ. संजय पाण्डेय,डॉ. राजेश द्विवेदी, डॉ. महेश गौड़ , डॉ.शैलेन्द्र त्रिपाठी, डॉ सर्वेश कुमार दुबे,डॉ. आलोक कुमार गुप्ता ,डॉ. प्रमोद कुमार तिवारी, डॉ. डी एन चौबे, डॉ.भूपेश सिंह, , डॉ सुरेश धर द्विवेदी, आदि उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments