Thursday, December 8, 2022
Homeसमाचारव्यापारी जयराम वर्मा की हत्या का एक महीने बाद भी खुलासा नहीं,...

व्यापारी जयराम वर्मा की हत्या का एक महीने बाद भी खुलासा नहीं, आंदोलन ने जोर पकड़ा 

कुशीनगर। पटहेरवा थाना क्षेत्र के नारायनपुर कोठी बाजार में सराफा व्यापारी जयराम वर्मा की हत्या का एक महीने बाद भी खुलासा नहीं कर पाने पर एक तरफ पुलिस की खूब फजीहत हो रही है तो दूसरी तरफ कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की अगुवाई में इस मुद्दे को लेकर चल रहा आंदोलन रोज ब रोज जोर पकड़ता जा रहा है। आंदोलन के 17वें दिन जिले के एएसपी नारायणपुर कोठी स्थित धरना स्थल पर पहुंचे और अजय कुमार लल्लू से बातचीत की लेकिन आंदोलनकारियों ने घटना का खुलासा होने और अपराधियों की गिरफ़्तारी होने पर ही आंदोलन खत्म करने की बात कही जिससे वार्ता विफल हो गयी।

सराफा व्यापारी जयराम वर्मा की छह जून की रात गला काट कर निर्मम हत्या कर दी गयी थी। जयराम वर्मा की नारायणपुर कोठी के एक कटरे में आभूषण की दुकान थी। वह दुकान में सोए हुए थे। देर रात बदमाश उनके दुकान में घुसे और गला काट कर हत्या कर दी। जयराम की हत्या की खबर सुबह तब पता चली जब सुबह आस-पास के दुकानदारों ने दुकान का शटर खुला देखा। शटर उठाने पर अंदर जयराम वर्मा की खून से लथपथ लाश पड़ी थी।

जयराम वर्मा देवरिया के रामगुलाम टोला के रहने वाले थे और सात वर्ष से अधिक समय से यहा व्यवसाय कर रहे थे। उनकी दुकान जिस कटरे में है वह क्षेत्रीय भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह कुशवाहा की है। कटरे से क्षेत्रीय भाजपा विधायक का आवास बमुश्किल सौ मीटर की दूरी पर है। यह कस्बे से कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही का गांव भी नजदीक है। स्थानीय लोगों इस बात पर हैरत जता रहे हैं कि सत्तारूढ पार्टी के दो नेताओं के आवास के पास इतनी बड़ी घटना हो गयी और पुलिस अभी तक घटना का खुलासा नहीं कर पायी है।

व्यापारी जयराम वर्मा की हत्या के विरोध में स्थानीय व्यापारियों ने बाजार बंद रखा और पुलिस पर दबाव बनाया कि घटना का जल्द खुलासा हो लेकिन पुलिस की सुस्त रवैये से वे निराश हो गए। इसी दौरान कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व तमकुहीराज से दो बार विधायक रहे अजय कुमार लल्लू ने इस घटना को जोर-शोर से उठाया और 13 जून को उन्होंने नारायणपुर कोठी में जनसभा की।

इस जनसभा में अजय कुमार लल्लू ने प्रशासन को 10 दिन में घटना का खुलास नहीं होने पर बेमियादी आंदोलन की चेतावनी दी। जनसभा के दस दिन बाद भी पुलिस जयराम वर्मा की हत्या का कोई सुराग नहीं पा सकी।

अपनी घोषणा के अनुरूप अजय कुमार लल्लू ने 23 जून से नारायणपुर कोठी में ही डेरा डाला दिया और बेमियादी धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया।

अजय कुमार लल्लू और फाजिलनगर विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनोज सिंह 23 जून से ही नारायणपुर कोठी में जमे हुए हैं और रोज इस मुद्दे को लेकर धरना, जुलूस, सभा, जल सत्याग्रह कर रहे हैं। सड़क किनारे धरना स्थल बनाया गया है जहां लोग दोनों नेताओं के आंदोलन के समर्थन में बैठे रहते हैं। धीरे-धीरे यह आंदोलन नारायणपुर कोठी से बढ़ता हुआ व्यापक होता जा रहा है। दोनों नेताओं ने स्थानीय लोगों के सहयोग से अब बघौचघाट, जौराबाजार, बनकटा, बाढू चैराहा, बड़हरा, रहसू, जौरा, जोकवा सहित एक दर्जन स्थानों पर जनसभा की है। दोनों नेताओं ने 30 जून को नारायणपुर कोठी में मार्च निकाला। इसके बाद सात जुलाई को मशाल जुलूस निकाला गया। आठ जुलाई को जल सत्याग्रह किया गया। इस तरह रोज धरने के अलावा आंदोलन का कोई न कोई रूप प्रयोग में लाया जा रहा है। इस आंदोलन में लोगों को अच्छा-खासा समर्थन भी मिलता दिखा रहा है।

कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू व्यापारी जयराम वर्मा की हत्या को इस इलाके सहित पूरे प्रदेश में खराब कानून व्यवस्था का मुद्दा बना रहे हैं। उन्होंने फााजिलनगर क्षेत्र क्षेत्र में पिछले कुछ महीनों में चोरी, लूट, वाहन चोरी की एक दर्जन से अधिक घटनाओं का व्यौरा तैयार कर उसे सार्वजनिक किया है। उनका आरोप है कि पुलिस इन आपराधिक घटनाओं का भी खुलासा नहीं कर सकी है। बढ़ती आपराधिक घटनाओं के कारण लोग दहशत में हैं।

अजय कुमार लल्लू ने बताया कि हाल के महीनों में दो चार पहिया वाहनों सहित अनगिनत दो पहिया वाहनों की चोरी व लूट की घटनाएं हुईं हैं। कई दुकानों में चोरी की घटना हुई है। उन्होंने कहा कि जयराम वर्मा भाजपा के समर्थक थे। विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत पर उन्होंने मिठाई बांटी थी लेकिन उनकी हत्या के बाद भाजपा नेताओं ने न तो उनके परिवार की सुधि ली न ही वे हत्या का खुलासा व अपराधियों की गिरफतारी के लिए पुलिस व प्रशासन पर दबाव बना रहे हैं।

आंदोलन के बढ़ते दबाव पर नौ जुलाई को जिले के एएसपी आंदोलनकारियों से वार्ता करने पहुुंचे और आश्वासन देकर आंदोलन खत्म करने का अनुरोध किया लेकिन अजय कुमार लल्लू, मनोज सिंह व अन्य आंदोलन कारियों ने घटना का खुलासा और अपराधियों की पकड़ होने तक आंदोलन स्थगित करने से मना कर दिया।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments