एआईएमआईएम ने गोरखपुर ग्रामीण सीट से दिलशाद बेग को प्रत्याशी बनाया

प्रदेश के 110 मुस्लिम बहुल सीटों पर है पार्टी की निगाह

गोरखपुर, 20 अप्रैल। आल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव के लिए आज अपने पहले उम्मीदवार की घोषणा कर दी। पार्टी ने गोरखपुर ग्रामीण क्षेत्र से दिलशाद बेग को उम्मीदवार बनाया है। इसके साथ ही समीर सिद्दीकी को पार्टी का जिला कंनवेनर बनाया गया है।
एआईएमआईएम उत्तर प्रदेश के अधिकतर सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने की फिराक में है। उसकी निगाह प्रदेश के 110 मुसलमान बहुल सीटों पर है।। यहां पर मुस्लिम मतदाताओं की वोट प्रतिशत 30 से 39 के बीच माना जाता है। पार्टी का के आकलन के अनुसार 44 सीट ऐसी हैं जहां मुस्लिम वोट प्रतिशत 40 से 49 प्रतिशत तथा 11 सीट ऐसी है जहां मुस्लिम मतदाता 50 से 65 प्रतिशत तक हैं। पार्टी इन स्थानों पर उम्मीदवार खड़ी कर मुस्लिम मत पर दावा करने वाली सपा सहित दूसरे प्रमुख दलों को बड़ी चुनौती देेना चाहती है।

एआईएमआईएम ने जिस गोरखपुर ग्रामीण क्षेत्र से अपना उम्मीदवार खड़ा किया है वहां मतदाताओं की संख्या 4 लाख है और यहां मुस्लिम, निषाद और यादव मतदाताओं की बहुलता है। वर्ष 2012 के चुनाव में भाजपा के विजय बहादुर को 58849, सपा के जफर अमीन डक्कू को 41864, बसपा के रामभुआल निषाद को 41338, कांग्रेस की काजल निषाद को 17636, पीस पार्टी के छेदी लाल को 8490 वोट मिले थे। कुल 29 प्रत्याशी चुनाव लड़े थे।
भाजपा विधायक विजय बहादुर यादव अब भाजपा में नहीं हैं। वह सपा के साथ जुड़े थे लेकिन खड़े थे लेकिन जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में भाई को प्रत्याशी नहीं बनाए जाने से सपा से बगावत कर दी। अब वह किस दल की डोर पकड़ेंगे,स्पष्ट नहीं है। पिछले चुनाव में बसपा प्रत्याशी रहे रामभुआल निषाद भी बसपा से अलग हो चुके हैं। ऐसे में गोरखपुर ग्रामीण क्षेत्र के राजनीतिक समीकरण को एमआईएमआईएम ने प्रत्याशी देकर और भी जटिल बना दिया है।

Leave a Comment

Skip to toolbar