समाचार

कुशीनगर जिले में तीन माह में 6 बच्चों की इंसेफेलाइटिस से मौत

बीआरडी मेडिकल कालेज में भर्ती बच्चा (फाइल फोटो)

रमाशंकर चौधरी

कुशीनगर। कुशीनगर जिले में तीन माह में इंसेफेलाइटिस से छह बच्चों की मौत हुई है। कुशीनगर जिले में इंसेफेलाइटिस के मद्देनजर 138 गांव हाई रिस्क की श्रेणी में हैं। यहां पर दो अप्रैल से विशेष जागरूकता अभियान  ‘ दस्तक ’ शुरू किया जा रहा है।

स्वास्थ विभाग की तरफ से जारी आंकडों के अनुसार जिले में तीन माह में 22 लोग इंसेफेलाइटिस से पीड़ित हुए। इलाज के दौरान छह बच्चों की मौत हो गई। वर्ष 2015 में इंसेफेलाइटिस से जिले में 608 लोग बीमार हुए जिसमें 137 की मौत हो गई। वर्ष 2016 में 1029 लोग इस बीमारी की चपेट में आए इनमें 161 की मौत हो गयी। इसी प्रकार 2017 में 833 लोग इंसेफेलाइटिस से बीमार हुए जिसमें से 126 की मौत हो गयी।
15 मार्च को हाटा क्षेत्र के बरवा छत्रसाल निवासी रमेश की तीन वर्षीय पुत्री अनुष्का, 10 मार्च को खिरकिया निवासी भोली की 14 वर्षीय पुत्री मुस्कान, 9 मार्च को इसी गांव के विनोद कुमार की तीन वर्षीय पुत्री दिव्याणी, 27 फरवरी को तमकुही क्षेत्र के बकुलहर निवासी कासिम के दस वर्षीय पुत्र परवेज, 20 फरवरी को रामपुर गांव निवासी संदीप वर्नवाल के चार वर्षीय पुत्र आर्दश और पडरौना के पास कुरमौल निवासी रामसनेही के सात वर्षीय पुत्र टुनटुन की मौत इंसेफेलाइटिस से हो गई।

Add Comment

Click here to post a comment