Templates by BIGtheme NET
Home » समाचार » गोरखपुर के विकास के लिए धन की कमी नही होने दी जायेगी-शिव प्रताप शुक्ल
manthan 2

गोरखपुर के विकास के लिए धन की कमी नही होने दी जायेगी-शिव प्रताप शुक्ल

गोरखपुर महोत्सव के दूसरे दिन गोरखपुर के विकास पर ‘ मंथन ‘

गोरखपुर 13 जनवरी। केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ल ने कहा कि प्रदेश और गोरखपुर के विकास के लिए धन की कमी नही होने दी जायेगी। जो भी योजनाएं भारत सरकार के नीति आयोग को भेजी जायेगी उसे बिना कटौती किये धन आवंटित किया जायेगा।

श्री शुक्ल गोरखपुर महोत्सव के दूसरे दिन आयोजित ‘ मंथन ‘ कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की एक ही शर्त है कि जो धन जिस योजना के लिए दिया जाये उसे उसी कार्य के लिए व्यय किया जाये।
पंडित दीन दयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय के दीक्षा भवन में आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से गोरखपुर के समग्र विकास के लिए विभिन्न क्षेत्र के लोगों ने विचार-विमर्श किया।
उन्होंने कहा कि इंसेफलाइटिस के विरूद्ध मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने काफी संघर्ष किया है और इसका परिणाम है कि यहां एम्स की स्थापना हो रही है और इसी वर्ष में इसकी ओपीडी शुरू हो जायेगी। उन्होंने कहा कि फर्टिलाइजर बन्द होने के 27 साल बाद इसे पुनः स्थापित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गीडा में भूमि की आवश्यकता है और इसके लिए प्रयास किया जा रहा है।

manthan

उन्होंने महापौर के इस संकल्प कि एक साल में नगर कूड़ामुक्त होगा, की सराहना करते हुए नागरिकों से सहयोग करने की अपील की। उन्होंने कहा कि विश्व स्तर पर गोरखपुर की पहचान दिलाने वाले गीता प्रेस के कर्मचारियों का मसला हल करके इसको सक्रिय रखना होगा।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए वीरबहादुर सिंह पूर्वान्चल विश्वविद्यालय जौनपुर के पूर्व कुलपति प्रो0 उदय प्रताप सिंह ने कहा कि गोरखपुर विश्वविद्यालय को केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनाने का प्रयास करना चाहिए।
गोरखपुर नगर के विधायक डा0 राधामोहन दास अग्रवाल ने कहा कि अगले एक साल में रामगढ़ताल पर्यटन का केन्द्र होगा. गुणवत्तायुक्त सड़क एंव पुल बनेंगे। विधायक शीतल पाण्डेय ने कहा कि केन्द्रीय विश्वविद्यालय बने। विधायक सतीश ने कहा कि कौशल विकास मिशन के विस्तार से युवाओं में कौशल बढ़ेगा और रोजगार मिलेगा।
महापौर सीता राम जायसवाल ने कहा कि एक साल में नगर को कूड़ामुक्त करेंगे। पूर्व मेयर श्रीमती सत्या पाण्डेय, अंजु चैधरी एंव पवन बथवाल ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियों का वर्णन किया। उद्यमी सुरेन्द्र अग्रवाल, प्रवीण मोदी, विष्णु अजीत सरिया ने रोजगार के अधिक अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रयास करने का  आश्वासन दिया। पुष्पदन्त जैन तथा यशपाल सिंह ने गोरखपुर के विकास में जैन एंव पंजाबी समुदाय के योगदान पर प्रकाश डाला। पत्रकार उमेश शुक्ल तथा हर्षवर्धन शाही ने भविष्य में भी निष्पक्ष पत्रकारिता एंव समाज का आइना दिखाते रहने  का आश्वासन दिया।
हिन्दी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष सदानन्द शाही ने हिन्दी और बोली के विकास, कुलपति प्रो0 रजनीकान्त ने शिक्षा के विस्तार, प्रो0 योगेन्द्र सिंह ने संस्कारयुक्त शिक्षा तथा प्रो0 बी0के0 सिंह ने परीक्षा में ग्रेड प्रणाली लागू करने पर बल दिया। पूर्व न्यायमूर्ति के.डी. शाही ने गोरखपुर में न्यायपालिका एवं प्रशासनिक क्षमताओं पर प्रकाश डाला।
दीक्षा सभागार में उपस्थित नागरिकों प्रो0 राजवन्त राव ने केन्द्रीय विश्वविद्यालय, मधु गुप्ता ने कर्मचारियों की नियुक्ति, वेद प्रकाश पाण्डेय ने नगर को छुट्टा पशु से मुक्त बनाने, हिन्दी भवन बनाने तथा फसल को पशुओं से बचाने, डा0 तेज प्रताप सिंह ने भोजपुरी भाषा, डा0 शिवशरण दास ने प्रदूषणमुक्त विकास एंव अतिक्रमणमुक्त नगर, छात्र देवान्ग त्रिपाठी ने परीक्षा पूर्व कोर्स पूरा कराने, छात्र गणेश पाठक ने विश्वविद्यालय कक्ष में सफाई रखने तथा पदाधिकारी ने  कर्मचारियों को 300 दिन अवकाश का नकदीकरण देने संबंधी मामला रखा।
मंथन कार्यक्रम का संचालन डा0 प्रदीप राव ने किया। मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार मृत्युजंय कुमार ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया। इसमें मण्डलायुक्त अनिल कुमार, प्रो0 विनोद सिंह, प्रो0 रविशंकर, डा0 सुधाकर लाल श्रीवास्तव, डा0 जे0एन0 पाण्डेय, डा0 आर0पी0 पटेल, प्रो0 अजय शुक्ला, प्रो0 हर्ष सिन्हा, प्रो0 शिखा सिंह, डा0 दिव्या रानी सिंह,रजिस्ट्रार शत्रोहन वैश्य एवं वरिष्ठ नागरिक तथा छात्र छात्राएं उपस्थित रहें।

About गोरखपुर न्यूज़ लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*