जनपद

ग्राम प्रधान पर फायरिंग

सिसवा बाजार (महराजगंज), 17 जून। पोखरभिंडा के ग्राम प्रधान बेचई प्रसाद पर शुक्रवार की रात कुछ लोगों ने फायरिंग की। यह घटना तब हुई जब वह एक शादी समारोह में भाग लेने जा रहे थे।

ग्राम प्रधान बेचई प्रसाद ने एसओ कोठीभार को दिए गये तहरीर में आरोप लगया है कि शुक्रवार की रात 9:30के करीब अपने मित्र लक्ष्मीपुर कोट के प्रधान बालकिसुन के साथ सितलापुर पतरेंगवा एक शादी में शामिल होने जा रहे थे। वह जैसे ही चिउटहा व पकड़ीआर के बीच पहुंचे थे तभी पीछे से चार पहिया वाहन से ओवरटेक कर बदमाशों ने हम लोगो के ऊपर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए रिवाल्वर से फायरिंग झोंक दी। हम अनिंयंत्रित होकर गाड़ी ले कर गिर पड़े और वाहन छोड़ खेत के रास्ते भागते हुए चिउटहां चौराहे पर पहंचे और एक घर का दरवाजा खुला देख उस घर जा घुसे और फाटक बंद कर लिया परंतु वे बदमाश पीछा करते हुए यहाँ भी पहुँच गए फाटक खटखटाने लगे परंतु लोगो को इकठ्ठा होते देख बदमाश भाग निकले। इसकी सूचना रात में ही 100 नम्बर पर दी गई लेकिन कोई भी घटना स्थल पर नही पहुंचा। उसके उपरांत चिउटहां चौकी पर तहरीर न लेकर कोठीभार थाने भेज दिया गया। उसके बाद 12 बजे के करीब थाने पहुंच कर एस ओ को तहरीर दिया गया।।उन्होंने तहरीर में कहा कि दोनों बदमाश गौनारिया के रहने वाले आपराधिक छवि के है। उन्होंने जान की सुरक्षा की मांग करते हुए मुकदमा दर्ज कर अभियुक्तों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की।

एक माह पूर्व ही पड़ गया था इस घटना का नींव
ग्राम प्रधान प्रतिनिधि बालकिसुन के अनुसार एक माह पूर्व उनकी एक पट्टीदार महिला रुक्मिना देवी स्वयं सहायता समूह महराजगंज से 30 हज़ार लोन ले के घर आ रही थी तभी चिउटहां के निकट इन बदमाशो ने महिला से 30 हज़ार रूपए छीन लिए जिसके शिकायत पुलिस की गई थी। बदमाशों ने बालकिसुन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाने लगे। परन्तु बालकिसुन द्वारा मामले को मैनेज न करता देख शक्रवार की रात अटैक कर दिया।
फोन करने के बाद भी नहीं पहुंची 100 नम्बर

ग्राम प्रधान बेचई प्रसाद व प्रधान प्रतिनिधि बालकिसुन का कहना है कि घटना के बाद सबसे पहले 100 नम्बर को सूचित किया गया परन्तु हम लोग तहरीर ले कर 12 बजे रात को कोठीभार थाने पर आ गए परंतु 100 की गाड़ी घटना स्थल पर नही पहुंची थी।
कार्यवाही नही करने पर थाने का करेंगे घेराव

ग्राम प्रधान बेचई प्रसाद ने कहा कि अगर कोठीभार पुलिस छिनैती मामले में बदमाशों के खिलाफ कार्यवाही कर दी होती तो उनका इतना मनोबल नही बढ़ता।अब फायरिंग के मामले में अगर पुलिस कोई कार्यवाही नही करती है तो गांव के लोग चिउटहां चौकी के घेराव के साथ रास्ता जाम करेंगे।जिसकी ज़िम्मेदारी पुलिस प्रशासन की होगी

Leave a Comment