जीएनल स्पेशल

अपने जूते लांड्री में धुलवाएं, गोरखपुर में खुली प्रदेश की पहली शू लांड्री

गोरखपुर में खुली पहली शू लांड्री
गोरखपुर, 24 अप्रैल। कपड़े तो आपने लांड्री में जरूर धुलावायें होंगें लेकिन जूता…..। चौंकिए मत। अब जूता भी लांड्री में धूलवायें और इतना ही नहीं उसे रिपेयर भी करवायें। कर्मचारी खुद आयेंगे और जूता ले जायेंगे फिर धुलकर दे भी जायेंगे। गोरखपुर में पहली शू लांड्री खुल गयी है, जो प्रदेश की पहली शू लांड्री है। मुहल्ला हजारीपुर में इसका वर्कशाॅप खुल चुका है। जहां हर किस्म के जूतों की धुलाई से लगायत रंगाई व् रिपेरिंग भी मशीनों के मार्फत होगी।

मुम्बई, दिल्ली, राजस्थान और तमिलनाडु के बाद  अब  प्रदेश में गोरखपुर शहर के नौजवानों नितीश, अमर ने इस दिशा में पहला कदम उठाया है। लांड्री के फ्रेंचाइजी अमन जायसवाल ने  बातचीत में बताया कि  लगभग 9 माह पूर्व मेरे कीमती जूते फट जाने से मेरे दिमाग में सवाल उठा कि अगर कपड़ों की रिपेरिंग और रख रखाव के लिए लांड्री होती है तो शूज के लिए भी इस तरह की व्यवस्था होनी चाहिए और इसके बाद से ही इस मुद्दे को लेकर मैंने तलाश शुरू कर दिया। छह माह पूर्व मैं जब चेन्नई गया था तो शू लांड्री देखकर लगा की मेरी तलाश पूरी हो गयी और मैं इसके मुख्यालय मुम्बई जाकर पूरी प्रक्रिया को करीब से देखा। गोरखपुर के हजारीपुर में आकर अपने जमीन के कुछ हिस्से में उक्त फैक्ट्री में महत्वपूर्ण मशीनों की स्थापना की। यहां के वर्करों को  मुम्बई से आई टीम द्वारा 3 माह की ट्रेनिंग करवाई गयी। उन्होंने बताया कि  भारत सरकार के दो मिशन स्वच्छ भारत और स्किल भारत की सोच को आगे बढ़ाने के साथ ही जरूरतमन्दों को ट्रेनिंग के माध्यम से शू टेक्नीशियन भी बनाने की पहल कर रहा हूँ।

shoe

इस फैक्ट्री में वाशिंग के साथ ही रिफरबिशिंग, रिपेरिंग, डीओडरीजिंग, डिश इंफेकटिंग,स्टेन रिमूवल,कलर टचप आदि की भी सुविधा रहेगी। मात्र 199 में जूतों की धुलायी व रिपेयरिंग दोनों हो सकेगी। सबसे अहम बात कि उक्त सारी सुविधाओं के लिए अब ग्राहकों को भाग दौड़ भी नही करनी होगी क्योंकि कम्पनी ने इसके लिए पिक ड्राप सेवा शुरू किया है। ग्राहकों को केवल दो नम्बरो 9792719719 और 9792819819 पर रिंग देनी होगी।

Leave a Comment