समाचार

जेएचवी शुगर मिल पर किसानों का 33 करोड़ बकाया

  • 6
    Shares

महराजगंज, 7 अप्रैल। जेएचवी शुगर मिल पर किसानों का 33 करोड़ और कर्मचारियों का 2 करोड़ बकाया है। किसानों और मजदूरों ने सीएम को पत्र लिख पर अपने खून पसीने की जमापूंजी के भुगतान की मांग की है।

चीनी मिल पर मौजूदा पेराई सत्र के करीब सात करोड दस लाख सहित जेएचवी पर किसानों का करीब  33 करोड रूपये बकया है।इनमें सर्वाधिक पेराई सत्र 2014-15 का करीब 29 करोड 72 लाख 45 हजार रुपये है जो बीते तीन सालो से बकया है।इसके भुगतान को लेकर किसानों ने पूर्व की सरकार में नेता से लेकर अधिकारी तक बार -बार गुहार लगायी लेकिन किसानों को कोरा आश्वासन ही मिला। सपा के पूर्व सांसद कुवंर अखिलेश सिंह द्वारा अपने ही सरकार में मिल गेट पर किये गये आन्दोलन के बाद हरकत में आया प्रशासन किसानों के बकाये मूल्य भुगतान को लेकर थोडी पहल शुरु तो की थी लेकिन उसका भी कोई खास नतीजा नहीं निकला।इसके बार 12 दिसम्बर 2016 की शाम एक बार फिर किसानों का आक्रोश फूट पडा और किसानों ने भुगतान को लेकर मिल की पेराई रोक दी और धरने पर बैठ गये।

इसके बाद मौके पर पहुंचे आला अफसरों ने मिल प्रबंधन से वार्ता के बाद किसानों को आवश्वसन दिया था कि 31 मार्च से पूर्व हर हाल में सम्पूर्ण बकाये गन्ना मूल्य का भुगतान करा दिया जायेगा और इसके लिये बकायदा चार सदस्यीय एक निगरानी कमेटी भी गठित की थी। लेकिन उसका भी कोई नतीजा नहीं निकला और मार्च बीतने के बाद भी जब भुगतान को लेकर मिल प्रबंधन गंभीर नही हुआ। इससे निराश किसानों ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख कर अपने समस्याओं का हवाला दे बकाये गन्ना मूल्य भुगतान पर ठोस निर्णय लेने की मांग करते हुये सालों से मिल प्रबंधन द्वाया दबाये बैठे अपने खून पसीने की कमाई का भुगतान कराने की मांग की है।

Add Comment

Click here to post a comment