राज्य

बच्चों की मौत की न्यायिक जाँच हो -सुभाषिनी अली

गोरखपुर , 17 जुलाई। माकपा की पोलित ब्यूरो सदस्य सुभाषनी अली ने आज बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज का दौरा करने और 10 व 11 अगस्त को अपने बच्चे खोने वाले परिजनों से मिलने बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस समय पूर्वाञ्चल बाढ़ की चपेट में है। दो से 3 दिन में बहुत ही बड़ी संख्या में मरीज और बीमार बच्चे यहां आएंगे, सरकार ने क्या तैयारी कर रखी है। उन्होंने कहा कि सरकार अपनी जिम्मेदा रियों का ठीक ढंग से निर्वहन नहीं कर रही है. लापरवाही से हुई मौतों पर परिवारजनों को प्रदेश सरकार मुआवजा दे।

उन्होंने सरकार से मांग की न्यायिक जांच और जिम्मेदार अधिकारियों को उचित सजा मिले।
माकपा का प्रतिनिधि मंडल-सुभाषिनी अली, मधु गर्ग(राज्य सचिवमण्डल सदस्य),मालती देवी(राज्य समिति सदस्य) ने गोरखपुर पहुंचकर इस त्रासदी के बारे में जांच पड़ताल की। सीपीआई एम के नेताओं ने सबसे पहले बिछिया गांव में जाहिद के घर जाकर उनकी 5 साल की मृत बच्ची खुशी के संबंध में सांत्वना जाहिर किया। उसके बाद प्रतिनिधिमंडल जंगल धूषण मड़वा टोला गया। जहां श्रीकिशुन गुप्ता परिवार का 3 दिन के बच्चे की 11 अगस्त को मौत हो गई. इसके बाद प्रतिनिधिमंडल ने मेडिकल कॉलेज के नेहरू अस्पताल का दौरा किया । जहां बड़ी संख्या में बच्चे भर्ती हैं और भर्ती होते जा रहे हैं। लेकिन बहुत सारी कमियां इस वक्त भी दिखाई दे रही हैं।

subhasini 2

प्रतिनिधिमंडल का कहना है कि यहां पर बहुत सारे डॉक्टरों और स्टाफ के लोगों को ठेके पर रखा गया है । उनका वेतन भी समय से नहीं मिलता है, इसके फलस्वरुप स्टाफ और डॉक्टरों की बहुत कमी है । यही नहीं मशीनों की देखरेख में भी खामियां हैं । इस अस्पताल के अलावा गांव और ब्लॉक स्तर की स्वास्थ्य सेवाएं बिल्कुल ही ठप्प हो गई हैं। उन्होंने कहा इस समय पूरा पूर्वांचल बाढ़ की चपेट में है । बहुत बड़ी संख्या में मरीज और बीमार बच्चे इसी मेडिकल कॉलेज में आएंगे, प्रदेश सरकार ने इसके लिए क्या तैयारी की है।सरकार अपनी जिम्मेदा रियों का ठीक ढंग से निर्वहन नहीं कर रही है लापरवाही से हुई मौतों पर परिवारजनों को प्रदेश सरकार मुआवजा दे । उन्होंने सरकार से मांग की कि न्यायिक जांच और जिम्मेदार अधिकारियों को उचित सजा मिले।

Leave a Comment