बाढ बचाव को लेकर शुरु हुई बलिया नाले की खुदाई

– पहले चरण में किमी 12 से 24 तक की होगी खुदाई

– ग्रामीणों ने कहा हेड से टेल तक हो खुदाई तभी मिलेगी बाढ से निजात
महराजगंज, 26 जून. नगर के बीचो बीच हो कर बहने वाला बलिया नाला बरसात के दिनों में उफनाता है तो एक दर्जन गांव सहित नगर के विभिन्न हिस्सों में बाढ जैसे हालात उत्पन्न हो जाते है। एक छोटे नाले की शक्ल में बहने वाला यह नाला बरसात के दिनों में जमकर कहर ढाता है. नगर के विभिन्न इलाकों में पानी लोगों के घरो में घुस जाता है जिसे लेकर लोगों को भारी मुसीबतों का सामना करना पडता है.  लम्बे समय से ग्रामीणों और नगर वासियों की मांग और आन्दोलन के बाद दशकों बाद बलिया नाला के सिल्ट सफाई का कार्य शुरु तो हुआ जिसे लेकर ग्रामीण काफी खुश है लेकिन 24 किमी लम्बे इस नाले के 12 किमी की ही सफाई होने से ग्रामीणों का कहना है कि विभाग अगर हेड से टेल तक सिल्ट सफाई का कार्य करा देता है तो दर्जन भर गांवों के लोगों को पुरी तरह बाढ से निजात मिल जाती।
सदर और मिठौरा ब्लाक के दर्जन भर से अधिक गांव हर साल बलिया नाले की उफनाती बरसाती पानी से घिर जाते है. लोगों के घरों में पानी घुस जाता है.  फसल जलमग्न हो जाती है जिसे लेकर ग्राम सभा रामपुरमीर, लेदवां, पिपरा कल्याण, सिन्दुरियां, आदि गांव सहित नगर के विभिन्न वार्डों के लोग शासन प्रशासन से बलिया नाले की बाढ से निजात दिलाने की मांग करते रहे है।

शासन के आदेश और जिला प्रशासन के निर्देश पर सिंचाई विभाग नाले की सिल्ट सफाई का कार्य शुरु किया है ।कुल 24 किमी लम्बे बलिया नाले के सफाई को दो चरणों में बांट कर सिचाई विभाग ने पहले चरण में किमी 12 से 24 तक रामपुर से बांसपार बैजौली तक का काम शुरु कर दिया. जल्द ही दूसरे चरण का भी काम शुरु किया जायेगा। जिसे लेकर ग्रामीणों में खुशी तो है लेकिन ग्रामीणों का कहना है कि विभाग नाले को हेड से लेकर टेल तक अगर नाले का बेहतर ढंग से सफाई नहीं कराये गा तो बाढ से पूरी तरह निजात नहीं मिल सकती।

Leave a Comment

Skip to toolbar