राज्य समाचार

मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश के 58 जिलों के अनुदानित मदरसों की होगी जांच

गोरखपुर के 10 अनुदानित मदरसे भी जांच के दायरे में 

सैयद फरहान अहमद
गोरखपुर, 3 मई। गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर प्रदेश के 58 जिलों के अनुदानित मदरसों की जांच  होगी। इनमें गोरखपुर के 10 अनुदानित मदरसे भी हैं।

गोरखपुर में जांच के दायरे में शहर के 4 व ग्रामीण इलाके के 6 अनुदानित मदरसे हैं। गोरखपुर में उच्च आलिया (आलिम, कामिल, फाजिल) के 7 व आलिया (मुंशी, मौलवी) के 3 मदरसें हैं।
इसमें आलिया स्तर के अनुदानित मदरसों की जांच जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी व जिला विद्यालय निरीक्षक करेंगे। उच्च आलिया स्तर के सभी अनुदानित मदरसों की जांच जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक तथा डीएम द्वारा नामित सदस्य यानी तीन सदस्यीय टीम करेगी।

अनुदानित मदरसों की जांच रिपोर्ट डीएम के जरिये निदेलशालय अल्पसंख्यक कल्याण विभाग एवं रजिस्ट्रार उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद लखनऊ के पास 31 मई तक भेज देना हैं।

गोरखपुर-बस्ती मंडल सहित उप्र के 58 जिलों के अनुदानित मदरसे जांच के दायरे में हैं। शासन से अनुदानित मदरसों की जांच करने के लिए पत्र आ गया है। इसकी जांच कर तय समय में रिपोर्ट शासन को भेजनी है। इस दिशा में आवश्यक कार्यवाही चल रही है। मदरसों के जिम्मेदारान तक इत्तेला हो चुकी हैं। जांच उप्र अशासकीय अरबी और फारसी मदरसा मान्यता, प्रशासन एवं सेवा नियमावली एवं शर्तों के आलोक में होनी हैं। जांच के लिए संयुक्त सचिव भवेश रंजन ने प्रारुप भी भेजा हैं। जिसमें 7 कॉलम हैं। प्रपत्र में मदरसों का विवरण, भवन का विवरण, छात्र संख्या, शिक्षकों की संख्या, मदरसों में अभिलेखों का रख रखाव, पुस्तकालय का विवरण देना हैं। अंत में मदरसा मानक पूर्ण करता हैं या नहीं इसका विवरण देना है।

संयुक्त सचिव अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ भवेश रंजन ने 25 अप्रैल को निदेशक अल्पसंख्यक कल्याण उप्र को भेजे गये पत्र में कहा हैं कि राज्य सरकार से अनुदान प्राप्त करने वाले आलिया और उच्च आलिया स्तर के मदरसों में पढ़ने वाले छात्रों को गुणवत्तापरक/ रोजगारपरक शिक्षा के लिए जरूरी आधारभूत सुविधाओं अथवा उद्देश्यों की पूर्ति न होने के संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिये गये निर्देशों के अनुपालन में अनुदानित मदरसों का स्थलीय/भौतिक सत्यापन कराया जाना हैं। जांच समयबद्ध समय में ही पूर्ण करके भेजना हैं।
मदरसा दारुल उलूम हुसैनिया दीवान बाजार के प्रधानाचार्य हाफिज नजरे आलम कादरी ने बताया कि मदरसा नियमावली में समय-समय पर संशोधन होते रहे हैं। वर्ष 2016 में नियमावली में पूर्व मंत्री आजम खान के आदेशानुसार काफी संशोधन हुआ था। उसी के परिप्रेक्ष्य में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दिए हैं।

गोरखपुर के उच्च आलिया स्तर के मदरसे जिनकी जांच होनी हैं
1. मदरसा अंजुमन इस्लामियां खूनीपुर गोरखपुर
2. मदरसा जियाउल उलूम पुराना गोरखपुर, गोरखनाथ गोरखपुर
3. मदरसा अरबिया शमसुल उलूम सिकरीगंज गोरखपुर
4.मदरसा अनवारुल उलूम गोला बाजार गोरखपुर
5. मदरसा दारुल उलूम हुसैनिया दीवान बाजार गोरखपुर
6. मदरसा जामिया रजविया मेराजुल उलूम चिलमापुर गोरखपुर
7. अंजुमन इस्लामियां उनवल गोरखपुर
-आलिया स्तर के अनुदानित मदरसे
8. मदरसा जामिया रजविया गोला बाजार गोरखपुर
9. मदरसा मिस्बाहुल उलूम असौजी बाजार गोरखपुर
10. मदरसा मकतब बहरुल उलूम बड़गो गोरखपुर⁠⁠⁠⁠

Leave a Comment

aplikasitogel.xyz hasiltogel.xyz paitogel.xyz