समाचार

राम से लेनी चाहिए राष्ट्रभक्ति की प्रेरणा : योगी आदित्यनाथ

गोरखपुर, 4 सितम्बर। राष्ट्रभक्ति क्या होती है, इसकी प्रेरणा हमें राम के जीवन से लेनी चाहिए। भगवान राम की प्रेरणा सदैव ही मानव जाति का मार्ग दर्शन करेंगी।
यह बातें मुख्यमंत्री एवं गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने रविवार को महन्त दिग्विजयनाथ की 48 वीं और महन्त अवेद्यनाथ की तीसरी पुण्यतिथि पर गोखनाथ मंदिर में आयोजित राम कथा ज्ञान यज्ञ के उद‍्घाटन अवसर पर कही।
उन्होंने कहा कि धर्म केवल पूजा पद्धति व उपासना नही है.  धर्म को किसी सम्प्रदाय, मंदिर व मस्जिद तक रखकर सीमित नही रखा जा सकता है. हम खुद धर्म की विराटता को कम नही कर सकते. धर्म हमारे नैतिकता, सदाचार व कर्तव्य का मार्ग प्रशस्त करती है. यदि किसी में धर्म का व्यापक स्वरुप है तो वह मर्यादा पुरुषोत्तम राम में है.
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो राम के बारे में नही जानता होगा. राम की आस्था के साथ आज भी जुड़े हुए हैं. व्यक्ति के जन्म से लेकर मरण तक राम का नाम साथ होता है. उन्होंने कहा कि राम की कथा सभी को मालूम है लेकिन इस कथा के साथ हमारे जीवन की घटने वाली घटनाएं जब जुड़ती हैं तो एक आकर्षण हम सभी का कथा के साथ होता है. राम कथा और रामलीला लोगों को आपस में जोड़ती है।
बाढ़ राहत कार्यों की सराहना
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले दिनों आई बाढ़ में गोरखपुर में तमाम संगठनों ने मिलकर प्रतिदिन लगभग 50 हजार भोजन के पैकट की व्यवस्था की कराई। इस कार्य की जितनी भी सराहना की जाए वह कम है। इन संगठनों द्वारा उपलब्ध कराए गए भोजन पैकटों को गोरखपुर ही नही बल्कि इसके आस पास के जनपदों में भी वितरण कराया गया।

Leave a Comment