समाचार

185 छात्र-छात्रों को कैसे पढ़ायें दो शिक्षक

इंदिरा गांधी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जसवल का हाल
गोरखपुर, 6 अगस्त. पीपीगंज के ग्राम जसवल में स्थित इंदिरा गांधी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय शिक्षकों की कमी से जूझ रहा है. कुछ महीनो से पुराने शिक्षकों के सेवानिवृत होने से विद्यालय में अब प्रधानाचार्य के अलावा दो शिक्षक ही रह गए हैं जिन्हें 185 छात्र-छात्राओं की पढ़ाने में काफी दिक्कत हो रही है.
शुक्रवार को विद्यालय पर पहुँचने पर पता चला कि सभी बच्चे शिक्षकों की कमी की वजह से वापस घर लौट गए हैं. मौके पर सिर्फ एक शिक्षक बिजेंद्र भास्कर की मौजूद मिले. एक शिक्षक राजू जायसवाल और प्रधानाचार्य दिनेश चंद्र दुबे अवकाश पर थे.

विद्यालय के प्रबंधक जयप्रकाश मल्ल ने कहा कि शिक्षकों की कमी के मामले में कई बार लिखित शिकायत माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड इलाहाबाद व जिला विद्यालय निरीक्षक से की गई लेकिन अभी तक विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नही की गयी है.
प्रबंधक ने बताया है कि विद्यालय के कक्षा 6 से 8 में 45 बच्चे है और कक्षा 9 व 10 में 140 बच्चे हैं. विद्यालय में सिर्फ दो से तीन कमरे ऐसे है जिसमे पठन पाठन हो सके. बाकी सभी कमरे पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुके है.

कभी इस विद्यालय में १२ शिक्षक थे. लेकिब अब सिर्फ दो रह गए है. एक-एक कर शिक्षक रिटायर होते गए लेकिन नए शिक्षकों की नियुक्ति नहीं हुई. इस कारन यह स्थिति आई है.
जसवल बाजार निवासी सत्यवीर सिंह पुत्र रमेश सिंह और प्रदुमन सिंह पुत्र रामप्रसाद कक्षा 9 में पढ़ते है लेकिन विद्यालय में शिक्षक ना होने के कारण वे स्कुल नही आना चाहते है।
वीरू और वीरेंद्र हाइस्कूल के विद्यार्थी है. आम्बिका मल्ल व स्वाति मल्ल 9 में पढ़ते हैं. चारों ने बताया कि स्कूल में पढ़ाई ना होने के कारण घर पर ही पढाई कर रहे हैं.

Leave a Comment