समाचार

ईद-उल-फित्र आज, चांद रात में बिखरी खुशियों की चांदनी

गोरखपुर। ईद-उल-फित्र का पर्व बुधवार को मनाया जायेगा। एक महीने तक रोजा रखने के बाद आखिर वह मौका आ गया जिसका हर मुसलमान को बेसब्री से इंतजार रहता है। ईद को लेकर बाजारों की रौनक भी देखने लायक थी। खरीददाराें की भीड़ का आलम यह था कि शाह मारूफ, रेती, उर्दू बाजार, घंटाघर एवं जाफरा बाजार में पैदल चलता तक मुश्किल था। सारी रात लोगों ने अपनी पसंद और जरूरत का सामान खरीदते रहें। कोई कपड़ा खरीद रहा था तो कोई सेवईयां ले जा रहा था।

खुशियाें और दावतों का त्योहार ईद अल्लाह की तरफ से अपने नेक बदों के लिए बेहतरीन तोहफा है। अल्लाह तआला की ओर से अपने बंदों को दिए गए इस खास तोहफे को लेकर मुसलमानों में जबरदस्त उत्साह था। चांद के ऐलान के बाद लोगों ने एक दूसरे को मुबारकबाद देनी शुरू कर दी। लोगों ने मुबारकबाद देने के लिए सोशल मीडिया  का सहारा लिया। जहां पुरुषों ने बाजार का रुख किया वहीं महिलाएं घरों को सजाने-सवांरने में जुट गई। रेती रोड, शाहमारुफ, घंटाघर, जाफरा बाजार, गोरखनाथ, रसूलपुर, बक्शीपुर, नखास आदि क्षेत्रों में रात भर लोग सामान खरीदते दिखाई पड़े।

रात के साथ ही साथ बाजारों की रौनक भी बढ़ती जा रही थी। सबसे ज्यादा भीड़ सड़क की दोनों ओर पटरी पर लगे अस्थाई दुकानों पर थी। रात के साथ सामानों की कीमत भी कम होती जा रही थी। चांद रात होने के कारण भीड़ होना लाजिमी था। मर्द  कुर्ता, इत्र,  टोपी, रुमाल, जींस, शर्ट, चप्पल और इत्र खरीदने में दिलचस्पी दिखा रहे थे, वहीं महिलाएं कप प्लेट, चूड़ी, ब्रेसलेट और नेल पालिश खरीदने में मसरुफ थी। यूं तो रमज़ान शुरू होने के साथ ही खरीददारी होने लगती हैं मगर चांद रात को जाकर ही खरीददारी पूरी होती है। चूड़ियों और मेंहदी के बिना ईद की खुशी अधूरी है। रंग बिरंगी चूड़ियां हमेशा से ही महिलाएं को लुभाती रही हैं। यही वजह है कि इन अस्थायी बाजारों में सबसे ज्यादा दुकानें चूड़ियों की लगी थी।

गोरखपुर के नार्मल स्थित हजरत मुबारक खां शहीद दरगाह पर ईद का चांद देखने के लिए जुटे उलेमा

भीड़ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि रेती रोड से लेकर मदीना मसजिद तक पैर रखने तक की जगह न थी। कमोवेश यही हालात जाफरा बाजार और गोरखनाथ क्षेत्र की थी। लोगों को जहां अपने पसंद का सामन खरीदने की जल्दी थी, वहीं सड़क पर सामान बेच रहे दुकानदार भी अपना सामान औने पौने दाम में बेचकर घर जाने की फिराक में थे। भीड़ को देखते हुए सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था। रेती रोड एवं जाफरा बाजार में वन वे कर दिया गया था। मीट की दुकानों पर लगी कतारें ईद को लेकर लोगाें का उत्साह देखते ही बन रहा था।

रात की नमाज के बाद लोगों का हुजूम गोश्त (मीट) की दुकानों पर उमड़ पड़ा। चिकन शाप हो या मटन शाप सभी पर देर रात तक लोगों की कतार नजर आई। मटन की कुछ मशहूर दुकानाें पर पूरी रात मीट खरीदने वालों की लाइन लगी रही। हालांकि मौके का फायदा उठाकर ज्यादातर दुकानदारों ने मीट
की कीमत तक बढ़ा दी थी।
दरगाह से हुआ ईद-उल-फित्र के चांद का ऐलान

दरगाह हजरत मुबारक खां शहीद नार्मल स्थित तंजीम उलेमा-ए-अहले सुन्नत की चांद कमेटी ने मंगलवार को ईद के चांद का ऐलान करते हुए कहा कि ईद-उल-फित्र का पर्व पूरे हर्षोल्लास के साथ बुधवार 5 जून को मनाया जायेगा। कमेटी ने अवाम को ईद की मुबारकबाद पेश की है और ईद में गरीबों का ख्याल रखने की नसीहत दी है। इस मौके पर कमेटी के मुफ्ती अख्तर हुसैन, मुफ्ती मोहम्मद अजहर शम्सी, मौलाना मकसूद आलम मिस्बाही, कारी शराफत हुसैन कादरी, कारी अफजल बरकाती, कारी जमील अहमद, मौलाना रियाजुद्दीन कादरी, मो. शमशीर अहमद, मौलाना असलम आदि मौजूद रहे।

Leave a Comment