साहित्य - संस्कृति

‘ गगन दमामा बाज्यो ‘ देख दर्शक इंकलाब जिंदाबाद का नारा लगाने लगे

बलिया.  उत्तर प्रदेशीय मिनिस्ट्रीयल कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ जनपद शाखा बलिया और संकल्प साहित्यक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था बलिया के संयुक्त तत्वाधान में 26 जनवरी को सायं 6:00 बजे से कलेक्ट्रेट स्थित प्रेक्षागृह में प्रख्यात लेखक पीयूष मिश्रा द्वारा लिखित नाटक ‘ गगन दमामा बाज्यो ‘ (द लीजेंड ऑफ भगत सिंह) का मंचन किया गया जिसे देख हजारों दर्शक भाव विभोर हो गए। कई दर्शक आंसू पोछते हुए नजर आए तो कुछ ने जोश में आकर इंकलाब जिंदाबाद का नारा भी लगाया.

यह नाटक उस दौर को प्रदर्शित करता है जिसमें भगत सिंह जैसे लोग पैदा होते हैं और अपने देश की रक्षा के लिए हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर झूल जाते हैं तथा हजारों नौजवानों के प्रेरणा स्रोत बनते हैं. यह नाटक बखूबी दर्शाता है कि कैसे भगत सिंह जीते जी लीजेंडरी हो गए.

नाट्य प्रस्तुति के अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भवानी सिंह खंगरौत ने कहा कि रंगमंच जैसी विधा को बचा कर रखने का जो प्रयास कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ और संकल्प के रंगकर्मी कर रहे हैं वह निश्चित रूप से प्रेरणादाई और प्रशंसा के काबिल है. हमें विश्वास है कि बलिया का रंगमंच अपनी बुलंदी को पहुंचेगा . भगत सिंह की भूमिका में आनंद चौहान बहुत ही जोरदार रहे.  उन्होंने अपने किरदार को मंच पर जीवंत कर दिया. इनके साथ अर्जुन कुमार रावत सुखदेव की भूमिका में तथा अमित राजगुरू की भूमिका में जोरदार नजर आए.

चंद्रशेखर आजाद की भूमिका में मयंक ने शानदार अभिनय किया. विद्यावती की भूमिका में सोनी और लड़की की भूमिका में ट्विंकल गुप्ता भी सराहनीय रही. इनके साथ कौशल कुमार उपाध्याय, संजय कुमार भारती, वीरेंद्र राम, श्री राम प्रसाद, मुकेश, गोविंदा, चंदन, हरिकेश, साहिल राकेश ,अखिलेश ,वैभव,अभिनव, छोटेलाल ने अपने किरदार को मंच पर बखूबी उतारा. संगीत शैलेंद्र मिश्र का जबकि ध्वनि प्रकाश तिवारी तथा प्रकाश व्यवस्था रोहित गोस्वामी का था। मंच परिकल्पना एवं निर्देशन आशीष त्रिवेदी का था.

नाट्य प्रस्तुति के बाद सभी कलाकारों को कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ की तरफ से प्रतीक चिन्ह और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया. कर्मचारी संघ के अध्यक्ष कौशल कुमार उपाध्याय ने जिलाधिकारी समेत सभी अतिथियों का स्वागत किया जबकि मंत्री संजय कुमार भारती ने आभार व्यक्त किया. कार्यक्रम का संचालन अश्विनी कुमार तिवारी ने किया.

Leave a Comment