स्वास्थ्य

देवरिया के  2434 नमूनों में मिले 165 टीबी के मरीज

-सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान के दस दिन
-सलेमपुर ब्लाक में मिले टीबी के सर्वाधिक मरीज
-3.31 लाख लोगों की हुई स्क्रीनिंग

देवरिया । टीबी के मरीजों की तलाश में जिले में चलाया गया सक्रिय क्षय रोगी खोजो अभियान (एसीएफ) पूरा हो गया है। 10 दिन तक चले अभियान में 165 नए मरीजों की पहचान हुई। इस दौरान 2434 संदिग्ध मरीजों के नमूनों की जांच की गई। सबसे ज्यादा टीबी मरीज सलेमपुर ब्लाक क्षेत्र में मिले।
जिला क्षय रोग अधिकारी डा. डॉ बी झा ने बताया कि शहरी सहित ग्रामीण क्षेत्रों में टीबी मरीजों की तलाश के लिए वर्ष 2017 से ही सक्रिय टीबी रोगी खोजो अभियान चल रहा है। इसका छठवां चरण जिले में 10 अक्टूबर से शुरू हुआ जो 23 अक्टूबर तक चला। इस अभियान में कुल 120 टीम लगाई गई। जिन्होंने 3.31 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की । विभाग की रिपोर्ट के अनुसार कुल 2434 लोगों के सैंपल लिये गये, जिनमें 165 मरीजों में टीबी की पुष्टि हुई है। सलेमपुर ब्लाक में 268 लोगों की जांच की गयी, जिनमें 22 लोगों में टीबी की बीमारी निकली। जनपद में सर्वाधिक टीबी रोगी सलेमपुर ब्लाक में ही मिले हैं। वहीं रुद्रपुर ब्लाक में 233 मरीजों की जांच हुयी जिनमें 21, जबकि पथरदेवा में 214 मरीजों की जांच की गयी जिनमें 18 मरीज टीबी से ग्रस्त मिले। गौरी बाजार में 14 , तरकुलवा में 12 , लार में 10 , भाटपार में 10 , बनकटा में 6 , भटनी में 4 , परसिया चंदौर में 9 , भटनी 8 , बरहज में 5 , महुआडीह में 6 , पिपरा कदम में 3 , जिला क्षय रोग केंद्र से 6 टीबी रोगी मिले हैं। टीबी की पहचान होने के तुरंत बाद ही मरीजों का उपचार शुरू हो गया है। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि दो सप्ताह से ज्यादा खांसी, बलगम, आना, बलगम में खून आना, लंबे समय से बुखार आना, भूख न लगना, वजन घटना, सीने में दर्द जैसे लक्षण मिलने पर जांच कराएं।
अबतक पोषण के लिए दिये गए 78 .47 लाख रूपये
जिला समन्यवक देवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि 165 मरीज चिह्नित किए जा चुके हैं। इन मरीजों का इलाज किया जाएगा। इस इलाज के दौरान पोषण के लिए मरीजों के खाते में 500 रूपये प्रतिमाह भी दिए जाएंगे। जिले में टीबी के पुराने 2722 मरीज हैं और 78.47 लाख रुपए पोषण के लिए दिए जा चुके हैं।

Related posts

लोगों का इलाज कैसे हो, पीपीगंज पीएचसी पर एक वर्ष से डॉक्टर नहीं

पीएम से रूबरू हुये जन औषधि केन्द्र के लाभार्थी

बीआरडी मेडिकल कालेज के पूर्व प्रधानाचार्य डा. राजीव मिश्र 10 महीने 11 दिन बाद जमानत पर रिहा