Monday, December 5, 2022
Homeसमाचारराष्ट्रीय लोक अदालत में 1,63,043 वादों का निस्तारण

राष्ट्रीय लोक अदालत में 1,63,043 वादों का निस्तारण

गोरखपुर। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में शनिवार को जनपद न्यायाधीश तेज प्रताप तिवारी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया जिसमे 1,92,997 वादों में से 1,63,043 वादों का निस्तारण किया गया।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव देवेंद्र कुमार ने बताया कि जनपद न्यायाधीश द्वारा दीवानी न्यायालय परिसर स्थित नई मीटिंग हाल में सुबह 10.30 बजे राष्ट्रीय लोक अदालत का उद्घाटन किया गया तथा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ से आए प्रचार वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया।

इस अवसर पर अपर जनपद न्यायाधीश सत्यानंद उपाध्याय,नोडल अधिकारी लोक अदालत जयप्रकाश, प्रधान न्यायाधीश देवेंद्र सिंह, स्थाई लोक अदालत के चेयरमैन गिरजेश कुमार पांडेय, बार एसोसिएशन सिविल कोर्ट के अध्यक्ष भानु प्रताप पांडेय सहित अन्य न्यायिक अधिकारी उपस्थित रहे।

लोक अदालत में जनपद न्यायाधीश द्वारा कुल 15 वादों,पीठासीन अधिकारी वाणिज्यिक न्यायालय द्वारा 21 वादों का निस्तारण किया गया। मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण द्वारा 176 वादों का निस्तारण करते हुए कुल 8,30,11,029 रुपया प्रतिकार एवार्ड किया गया। स्थाई लोक अदालत के चेयरमैन द्वारा 5 वादों,उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष द्वारा 23 वादों का निस्तारण किया गया। पारिवारिक न्यायालयों द्वारा कुल 62 वादों का निस्तारण किया गया।इसके अतिरिक्त प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय द्वारा कुल 15 जोड़ो की विदाई कराते हुए उन्हें विदा किया गया।

प्रलितिगेशन स्तर पर विभिन्न बैंकों,कंपनियों व भारत दूरसंचार निगम से संबंधित 1550 वादों का निस्तारण करते हुए कुल,2,99,34,021 रुपया जमा कराया गया।वही राजस्व व अन्य विभाग द्वारा 142256 वादों का निस्तारण किया गया।इसी प्रकार समस्त न्यायालयों द्वारा कुल 20,112 प्रशमनीय आपराधिक वादों का निस्तारण करते हुए कुल 5,83,560 रुपया अर्थदंड वसूल किया गया।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments