जनपद

अन्त्योदय मेले की प्रदर्शनी में पंचायती राज विभाग को प्रथम स्थान

-जिला कार्यक्रम विभाग को दूसरा और वन व ग्रामोद्योग विभाग को तीसरा स्थान
– विजयी विभागों व प्रतिभाओं को डीडीओ व डीओ पीआरडी  ने किया पुरस्कृत

महराजगंज, 24 सितम्बर. पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी के अवसर पर विकास भवन परिसर में आयोजित तीन दिवसीय अन्त्योदय मेले के समापन अवसर पर जिला विकास अधिकारी राधेश्याम व जिला युवा कल्याण विभाग के अधिकारी अजातशत्रु शाही ने विजयी प्रतिभागियों व खिलाड़ियों को पुरस्कृत किया।
अन्त्योदय मेले में जिन विभागों ने प्रदर्शनी लगाई थी उसमें से पंचायती राज विभाग को प्रथम , जिला कार्यक्रम विभाग को दूसरा तथा  वन व ग्रामोद्योग विभाग को तीसरा स्थान मिला।
निबंध प्रतियोगिता में सलोनी पटेल को प्रथम, कृष्ण कुमार पांडेय को द्वितीय तथा अमीषा पटेल को तीसरा स्थान मिला । चित्रकला प्रतियोगिता में आरती गौतम को पहला,अरविंद कुमार को दूसरा तथा कृष्ण चंद्र को तीसरा स्थान मिला। सुलेख प्रतियोगिता में किशन को प्रथम, शैलजा को द्वितीय तथा अंकिता को तृतीय स्थान मिला।  भाषण प्रतियोगिता में विपुल भारद्वाज पहला, उज्जवल दूसरा तथा विजय लक्ष्मी को तीसरा स्थान मिला ।
ताइक्वांडो प्रतियोगिता में 45 किलो भार महिला वर्ग  में निधि सिंह व सोनी पटेल पुरूष वर्ग में फरहान फैजी  व आशुतोष पटेल, 50 किलो भार  में दिपांशु मिश्रा ,सूर्य प्रताप,तथा 35 किलो वर्ग में फलक यादव व शीतल वर्मा को क्रमशः पहला व दूसरा स्थान मिला ।
डेमोस्ट्रेशन में आशुतोष पटेल,सूर्य प्रताप, फरहान फैजी,सच्चिदानन्द, खुशी ,प्रियांशु , लाल बहादुर, सोनी पटेल,सन्नी कुमार,मनीष चौहान,शांभवी सिंह को पुरस्कृत किया गया।
कुश्ती प्रतियोगिता के 36 किलो भार में रामकरन यादव को पहला तो संतोष कुमार प्रजापति को दूसरा, 40 किलो भार में धर्मवीर यादव को पहला तो अजय वर्मा को दूसरा स्थान मिला। 46 किलो भार में अजीत कुमार को पहला तो अविनाश को दूसरा स्थान प्राप्त हुआ। जबकि 50 किलो भार में राहुल प्रजापति को पहला तो राम सजीवन को दूसरा स्थान मिला ।
60 किलो भार  में विशाल कुमार को पहला तो श्याम करन को दूसरा जबकि 66 किलो भार में सदरे आलम को पहला तो सज्जाद को दूसरा स्थान मिला ।
इस अवसर पर जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी दीपक पांडेय, जिला पंचायत राज अधिकारी मनोज त्यागी, क्रीड़ा अधिकारी, पंडित दीनदयाल  इंटर कालेज के प्रबंधक विजय बहादुर सिंह, अमरेन्द्र शर्मा ने अन्त्योदय मेले की आवश्यकता व महत्ता पर प्रकाश डाला।