राज्य

विजय बहादुर यादव की बढ़ी नजदीकी से सपा में रार

डक्कू ने विजय यादव पर तीखा हमला बोला, अवसरवादी विधायक करार दिया
कहा-सत्ता का मजा लिया और सपा का ही विरोध किया
गोरखपुर, 16 जून। भाजपा केे निलम्बित विधायक विजय बहादुर यादव के सपा से बढ़ी नजदीकी पर सपा में घमासान शुरू हो गया है। सपा नेता और उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक वित्तीय एवं विकास निगम के निदेशक जफर अमीन डक्कू ने पत्रकार वार्ता कर विजय बहादुर यादव पर तीखा हमला बोला। डक्कू ने विजय बहादुर यादव को राजनीति का व्यापारी करने वाला अवसरवादी विधायक करार दिया और कहा कि बार-बार पाला बदलने वाले इस नेता को जनता माफ नहीं करेगी।
डक्कू की विजय बहादुुर यादव से नाराजगी इसलिए है कि वह उनके सपा से गोरखपुर ग्रामीण सीट से दावेदारी करने लगे हैं जबकि वह इस सीट से चुनाव लड़ना चाहते हैं। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में गोरखपुर ग्रामीण सीट से डक्कू सपा से लड़े थे और हार गए थे जबकि विजय बहादुर यादव भाजपा से चुनाव लड़कर जीते थे। बदलती परिस्थिति में दोनों अब एक ही पाले में आ गए हैं और सपा से टिकट के दावेदार बन एक दूसरे के प्रतिद्वंदी बन बैठे हैं।
डक्कू ने पत्रकार वार्ता में कहा कि विजय बहादुर यादव गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ के उत्पीड़न के कारण सपा में आना चाहते हैं। वह दो वर्ष से सपा के नजदीकी बन सत्ता का खूब मजा उठाया लेकिन जब जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में भाई को सपा का उम्मीदवार बनाने में असफल हुए तो सपा के खिलाफ चुनाव लड़ बैठे। यही नहीं बसपा के साथ मिलकर उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव के खिलाफ खूब जहर उगला। वह बसपा से टिकट लेने की कोशिश करने लगे। उसमें असफल होने पर फिर से भाजपा में जाने का प्रयास किया। यहां तक पीस पार्टी से भी मेलजोल बढ़ाया। अब विधान परिषद व राज्यसभा में सपा के पक्ष में मतदान कर सपा में आने की कोशिश कर रहे हैं।
सपा नेता ने कहा कि यह सही है कि योगी आदित्यनाथ एम्स की राह में अड़ंगा डाल रहे हैं तो विजय बहादुर यह जानते हुए भी अब तक चुप क्यों थे ? डक्कू ने कहा कि आज विजय बहादुर यादव योगी आदित्यनाथ पर धर्म व सम्प्रदाय की राजनीति करने वाला बता रहे हैं लेकिन वह खुद इसी पार्टी से धर्म व सम्प्रदाय की राजनीति करते रहे हैं तो अब किस मुंह से इसका विरोध कर रहे हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में उन्होंने अल्पसंख्यकों और उनके खिलाफ खूब जहर उगला था तो रातोरात उनके विचार कैसे बदल गए ?

Tags

Add Comment

Click here to post a comment