समाचार

विवादित पोस्टर पर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में ही मचा घमासान

गोरखपुर, 3 अक्टूबर। विजयदशमी के मौके पर टाउनहाल गांधी प्रतिमा के पास भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की तरफ से जारी किये गए विवादित पोस्टर को लेकर जहां कांग्रेसियों और सपाईयों में जबरदस्त आक्रोश है वहीं मोर्चा के अंदर भी विवादित पोस्टर को लेकर घमासान मच गया है। मोर्चा के जिला महामंत्री आदिल अमीन ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए पोस्टर पर कड़ी आपत्ति जताई है और इसे भाजपा को बदनाम की साजिश भी करार दिया है। उन्होंने पोस्टर से खुद को अलग कर लिया है।

कांग्रेसियों ने पोस्टर के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है
कांग्रेसियों ने पोस्टर के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है

जिला महामंत्री आदिल अमीन ने सोमवार को जारी विज्ञप्ति में कहा कि भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चो के विवादित पोस्टर में विपक्षी पार्टी के नेताओं पर कटाक्ष और रावण की संज्ञा गलत राजनीति है। यह सिर्फ थोथी लोकप्रियता का परिचायक है और मात्र माहौल को गर्म करने वाला है। जिसे भाजपा कतई पसंद नहीं करती है। भाजपा अच्छे कार्यों के आधार पर उप्र व केंद्र में हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेरे आदर्श हैं।
उन्होंने कहा कि मैं इस पोस्टर विवाद में शामिल नहीं था। मेरी फोटो बिना मेरे संज्ञान के पोस्टर में लगायी गई। यह गलत राजनीति भाजपा को बदनाम कर रही है। यह निंदनीय है।

press release_adil amin
शनिवार को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की तरफ से शहर के टाउनहाल स्थित गांधी प्रतिमा के पास विवादित पोस्टर लगाया गया था। अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश कार्यकारी समिति सदस्य इरफान अहमद व नगर मंत्री रिज्जू भाई रिजवान ने मिशन-2019 का प्रचार करते हुए पोस्टर जारी किया था। पोस्टर में अधर्म पर धर्म की विजय के प्रतीक रावण वध की घटना को प्रतीकों के माध्यम से दर्शाया गया गया था। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राम, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लक्ष्मण व भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को हनुमान के रूप में दर्शाते हुए विपक्षी पार्टी के नेताओं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव, कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं को रावण के रूप में दिखाया गया था।

विवादित पोस्टर की सूचना सपाईयों और कांग्रेसी नेताओं तक पहुंची तो वे आक्रोशित हो गए। दोनों दलों के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन करने के बाद भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के सदस्यों के खिलाफ कोतवाली में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज करने की मांग की। कोतवाली थाना में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। विवादित पोस्टर में मोर्चा के जिला महामंत्री आदिल अमीन की भी फोटो थी।
कांग्रेस के जिला महासचिव अनवर हुसैन ने इसे जनभावना को आहत करने वाला करार दिया था वहीं  सपा जिलाध्यक्ष प्रह्लाद यादव ने पोस्टर जारी करने वाले भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पदाधिकारियों के खिलाफ कोतवाली थाने में तहरीर दी थी। सपा जिलाध्यक्ष ने कहा था कि प्रदेश में भाजपा की सरकार है। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के लोग नफरत की राजनीति कर रहे हैं। दशहरा और मुहर्रम के बीच ऐसे नेताओं पर टिप्पणी से करोड़ों समर्थकों की भावनाओं का अपमान किया है.

विवादित पोस्टर में मोर्चा के इरफान अहमद, आदिल अमीन, रिज्जू भाई रिजवान, जावेद अहमद, नवी हसन, शमीम अहमद, इफ्तेखार हुसैन, पदमा गुप्ता के नाम हैं.

Related posts

लक्ष्मीगंज चीनी मिल को चलवाने के लिये बारिश के बीच भी जारी है किसानों का आन्दोलन

परिवार नियोजन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए गोरखपुर मंडल के 153 स्वास्थ्यकर्मी सम्मानित

समय से सूचना न देने पर जन सूचना अधिकारी पर अर्थदण्ड लगेगा : मुख्य सूचना आयुक्त