साहित्य – संस्कृति

साहित्य - संस्कृति

प्रो गिरीश रस्तोगी की तीसरी पुण्यतिथि पर नाटक का मंचन, ‘ अभिव्यक्ति की चुनौती एवं समकालीन रंगमंच ’ विषय पर संगोष्ठी

वक्ताओं ने कहा-रंगकर्म नई दुनिया और उसका सपना रच सकता है पहला रूपान्तर कला सम्मान वरिष्ठ रंगकर्मी शंभू तरफदार और प्रसिद्ध चित्रकार प्रो मनोज कुमार सिंह को दिया...

साहित्य - संस्कृति

पांचवा आरिफ अज़ीज़ लेनिन स्मृति समारोह 26 जनवरी को

गोरखपुर, 18 जनवरी। रंगकर्मी आरिफ अज़ीज़ लेनिन की पांचवी पुण्यतिथि पर 26 जनवरी को दोपहर 2 बजे से प्रेमचंद पार्क में संगोष्ठी, नाटक का मंचन और जन गीत के गायन का...

Uncategorized साहित्य - संस्कृति

गोरखपुर महोत्सव में प्रो रामदेव शुक्ल, कृष्णचंद लाल, जुगानी भाई सहित 29 लोग सम्मानित

गोरखपुर, 14 जनवरी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न विधाओं में अमूल्य योगदान देने वाले दो दर्जन से अधिक लोगों को अंगवस्त्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित...

साहित्य - संस्कृति

सावित्रीबाई फुले का संघर्ष भारतीय समाज के नवनिर्माण का संघर्ष था : डॉ. रामायन राम

अग्रेसर ( अमेठी ) में  सावित्रीबाई फुले पुस्तकालय उद्घाटन और पहला सावित्रीबाई फुले व्याख्यान  गीतेश सिंह 3 जनवरी 2018 की सर्द सुबह देश के विभिन्न हिस्सों से...

साहित्य - संस्कृति

‘ हजरत निजामुद्दीन औलिया इस ज़मीं पर मोहब्बत के आसमां ’

दरगाह हजरत मुबारक खां शहीद पर हजरत निजामुद्दीन औलिया अलैहिर्रहमां का उर्स-ए-पाक गोरखपुर, 6 जनवरी। नार्मल स्थित दरगाह हजरत मुबारक खां शहीद पर शुक्रवार को जुमा...

साहित्य - संस्कृति

प्रो. विनय कंठ ने शिक्षा को जनपक्षीय बनाने के लिए संघर्ष किया

प्रो. विनय कंठ को जसम की श्रद्धांजलि पटना (बिहार), 29 दिसम्बर. जाने-माने शिक्षाविद् और पटना विश्वविद्यालय में गणित के चर्चित शिक्षक प्रो. विनय कंठ के निधन पर...

साहित्य - संस्कृति

बिहार के साहित्यिक-सांस्कृतिक और शैक्षणिक जगत की पहचान थे प्रो. सुरेंद्र स्निग्ध

  प्रो. सुरेंद्र स्निग्ध को जसम की श्रद्धांजलि जन संस्कृति मंच कवि, उपन्यासकार, संपादक और अध्यापक प्रो. सुरेंद्र स्निग्ध के निधन पर गहरा शोक जाहिर करते...

साहित्य - संस्कृति

चंद्रशेखर पांडे ” अफ़रोज़ ” की किताब ” दरख्शां ” का विमोचन

बगहा (पश्चिम चम्पारण ), 22 नवम्बर. चंपारण अदबी मंच के बैनर तले डी एम एकेडमी बगहा के परिसर में आयोजित एक कार्यक्रम में चंद्रशेखर पांडे ” अफ़रोज़ ”...

साहित्य - संस्कृति

अबकी बार लौटा तो वृहत्तर लौटूँगा

गीतेश सिंह  15 नवम्बर 2017 को लगभग नब्बे वर्ष की आयु में हिंदी के महान कवि कुँअर नारायण की सांसों ने उनका साथ छोड़ दिया और कुँवर जी ने हमारा | ‘अबकी बार वृहत्तर...

साहित्य - संस्कृति

पाँच दशकों में फैली सृजन यात्रा : “ वह औरत नहीं महानद थी ”

डॉ. संदीप कुमार सिंह कवि, समीक्षक,संस्कृतिकर्मी व पत्रकार कौशल किशोर का बोधि प्रकाशन जयपुर से प्रकाशित ” वह औरत नहीं महानद थी ” पहला काव्य संग्रह...